जब एक आदमी ने महात्मा बुद्ध से पूछा - जीवन का मूल्य क्या है।

जब एक आदमी ने महात्मा बुद्ध से पूछा - जीवन का मूल्य क्या है। Buddha Motivational Story in Hindi.



mahatma buddha motivational story in hindi- www.luiehindi.com
महात्मा बुद्धा 


एक बार की बात है महात्मा बुद्ध एक गॉव में ठहरे हुए थे। उनसे मिलने एक आदमी आया और बोला - महात्मा जीवन का मूल्य क्या है? कृपया मुझे बताये मेरी जिज्ञासा शांत करे। बुद्ध ने उस आदमी को एक चमकता हुआ पत्थर दिया और कहा पहले इस पत्थर का मूल्य पता कर के आओ, लेकिन इसे बेचना नहीं है। 

अब आदमी निकल पड़ा बाजार में उस पत्थर का मूल्य पता करने, लेकिन उस पत्थर को बेचना नहीं है जैसा की महात्मा (बुद्धा) ने कहा था।
सबसे पहले वह आदमी संतरे वाले के पास गया। 

आदमी - भाई साहब इसकी (पत्थर) कीमत क्या है ?

संतरे वाला - वैसे ये पत्थर मेरे कोई काम का नहीं है। लेकिन ये पत्थर चमकता बहुत अच्छा है इस लिए मई इसके 12 संतरे दूंगा। 

वह आदमी थोड़ा आगे बढ़ा और उसे सब्जी वाला मिला। 

आदमी - भाई साहब इसकी (पत्थर) कीमत क्या होगी। 
सब्जी वाला - वैसे ये पत्थर चमकता बहुत अच्छा है इसलिए मैं आपको इसके बदले 1 बोरी आलू दूंगा। 
वह आदमी उस पत्थर को नहीं बेचा चुकी, महात्मा (बुद्ध) का आदेश था इसे बेचना नहीं है। सिर्फ इसकी कीमत पता करनी है।  

वह आदमी थोड़ा और आगे बढ़ा और उसको सुनार वाला मिला। 

आदमी - पत्थर दिखाया और पूछा इसकी कीमत क्या है ?

सुनार वाला - सुनार वाले जब उस पत्थर को देखा और बोला तू मेरे से एक हजार स्वर्ण मुद्रा ले जा। लेकिन मुझे ये पत्थर दे जा, लेकिन आदमी ने मना कर दिया। सुनार फिर बोला तू मुझसे चार हजार स्वर्ण मुद्रा ले जा लेकिन मुझे ये पत्थर दे जा। लेकिन फिर भी उस आदमी ने उस पत्थर को देने से मना कर दिया। सुनार फिर एक बार और बोला -तुम इसकी जो कीमत मांगोगे मैं दूंगा, उस आदमी ने सुनकर कहा मेरे गुरु ने इसे बेचने से मना किया है। 

वह आदमी पत्थर को लेकर हिरे बेचने वाले जौहरी के पास पंहुचा। 

आदमी - What is the value of this stone? इस पत्थर की कीमत क्या है। 

जौहरी वाला - ये तो बेस कीमती रत्न है। ये अनमोल है इसका कोई मोल नहीं है। 
वह आदमी हैरान होकर भागा-भागा अपने गुरु (बुद्ध) के पास पंहुचा। और उसने सारी बात बताई और पूछा, महात्मा जीवन का मूल्य क्या है? 
महात्मा बुद्ध बोले - संतरे वाले ने इस रत्न की कीमत 12 संतरे लगाई | सब्जी वाले ने 1 बोरी आलू, सुनार ने चार हजार स्वर्ण मुद्राएँ और जौहरी ने इसे अनमोल बताया। 

अब यही बात मानव जीवन के साथ भी है। तुम बेशक हिरा हो, लेकिन ध्यान रखना सामने वाला तुम्हारी कीमत अपनी सामर्थ और अपनी योग्यता के अनुसार ही लगायेगा। 

Learning point is - दोस्तों अगर आपको कोई कहता है आप इसके काबिल नहीं हो। आप ये नहीं कर सकते, तुमसे ये नहीं हो सकता। वगेरा-वगेरा तो चिंता मत कीजिए (Don't Worry), संदीप माहेश्वरी जी भी कहा करते है। अगर आपको कोई कहता है की आप ये नहीं कर सकते। तो सीधा सा मतलब है वो ये कहने की कोशिश कर रहा है की मैं इस काम को नहीं कर सकता इस लिए मुझे लगता है। की पूरी की पूरी दुनिया में ऐसा कोई नहीं है जो ये काम कर सकता है। 
और हां दोस्तों दूसरों के कहे गए बात के बजाय अपने आप पर विश्वास कीजिए (Belive in your self ). अपने आप को तपाइये एक दिन आप जरूर हिरा बनेंगे। 

इसी के साथ मिलते है अगले पोस्ट में तब तक खुश रहिए।


निवेदन : When a man asked Mahatma Buddha - what is the value of life? आपको कैसा लगा हमे Comment के माध्यम से जरूर बताये और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले। Thanku !! Have a nice day . 

Post a Comment

0 Comments